Thursday, March 29, 2018

गल सुणा

चेक कलाकार वेरोनिका रिश्‍त्रोवा Czech artist Veronika Richterová



गल एह् होई भई जिञा ई हवाई जहाजें लैंड कीता तां इञां लग्गा जणता जाहज कुनकी पचांह ते जोरा नै खिंजी लया। अपर फिरी भी घस्टोंदा ई चली गया कनै हवाई अड्डे दे कुतकी पुछाड़ें जाई नै रुकेया। सवारियां ताईं एह् रोजकी गल थी। जहाजे खड़ोंदे-खड़ोंदे सारियां सवारियां अपणिया-अपणिया सीटा पर खड़ोई गइयां। दुनिया दे सारे काह्ळे माह्णु हवाई जहाजां च ही औंदे जांदे। घट काह्ळे रेलां च चलदे। तिन्हां ते मट्ठे बसां च। जेहड़े होर भी टिकआउएं हुंदे सैह् टांगेयां, बैलगड़ियां, घोड़यां, खचरां वगैरा दे झूटे लैंदे। हां। सै: नां कुती औंदे न जांदे। बस झूटयां लैणे ताईं सवारी करदे। अज के जमाने च घरा ते बजार जाणा कोई जाणा थोड़ी होया। सफर करना होऐ तां कलकत्ता मद्रास जा, या दिल्ली बंगलौर जा। बौंबे बड़दा जा। जे फिरी भी लुक न हटै तां लंदन अमरीका जा। बाकी तां साह्ड़ा ग्रांह्जड़ भाई जांह्गा भी तां कुती तक जांह्गा। खैर छड्डा। गल सुणा।

होया एह् भई सारे ही काह्ळे खड़ोई पै कनै समाना चकदे-चकदे मौका ताड़ना लगे भई अगले ते गांह् किञा निकळिए। अज के जमाने दी सारी सरनूह्ट एही ता है। हर कोई एही सोचदा मैं गांह् आळे जो पचांह् छड्डी नै गांह् किञा बदहां। इस बतीरे जो ई तां रैट रेस गलांदे। चूहा दौड़।

तां होया एह् भई अपणे आप ही मेरे हत्थें पाणिए दा बोतलू आई गया। मिनरल वाटर। पा पक्के दा बोतलू। अजकला नौंआ फैसन चलेया। छोट-छोटेयां बोतलुआं पकड़ाई दिंदे। भौंऐ हवाई जहाजे च पीया भौंएं घरें जाई नै। गलासां दा जमाना बीती गया। मैं सै: बोतलू खीह्से पाया कनै बाह्र निकळणे ताईं अपणिया बारिया निहाळणा लगा।

मने च ख्याल आया भई एह् मेरे खीह्से च कया है? मरे खीह्से च पाणी है। पउआ नीं है। पाणी है। पीणे आळा पाणी। एह् पाणी नळके च हुंदा। एही खड्डां नाळुआं च। नदी दरिया इसी नै भरोयो। समुद्दर ठाठां मारदा। चौं पास्यां पाणो-पाणी। होर क्या है समुद्दर। बद्दळ भी पाणी ही तां हुंदे। सारा साल न्हाळदे रैंह्दे। मानसून औणी है तां बरखा होणी है। अंबरैं बह्रना है तां खेतरां च फसलां जमणियां। फसलां पकणा है तां चुह्लयां अग्ग बळणी है।

तां क्या इह्दा मतलब एह् होया भई मेरे खीसे च समुद्दर है? कि नदी दरिया हन? या बद्दळ कठरोई गयो? मैं कितणा खुसकिस्मत हुंगा? मेह्ते बड़ा भागसाली कुण हुंगा जिह्दे खीसे च पा कक्का पाणी है।

कुछ साल पैह्लें अद्धे किलो दियां बोतलां जादा चलदियां थियां। तिह्ते पैह्लें किलो आळियां। दफ्तरां दियां मीटिंगां च मेजां पर किलो किलो दियां बोतलां खरेड़ी दिंदे थे। माह्णू छोटे बोतलां बडियां। फिरी अधियां होइयां। हुण बच्चा बोतलां आई गइयां। छोट-छोटे बोतलू। जणता लोक पाणिए बचा दे। पर अक्ली दे दुस्मण एह नीं समझा करदे भई प्लास्टिक कितणा बर्बाद होआ दा। इह्दा क्या करगे? अपर मार्केटिंग आळयां होर थोड़ी सिक्खेया किच्छ? तिन्हां दा बस चलै तां अपणेयां मां बुढ़ेयां भी बेची औह्न। 

मिनरल वाटर अज्जे ते बीह् साल पैह्लें हई नीं मिलदा था। दिलिया पाणिए दियां रेह्ड़ियां हुदियां थियां। उप्पर छतरिया दे हैंडले साह्ई पाइप हुंदी थी कनै तिसा नै पंप जेह्या लगया हुंदा था। ग्लास भरी भरी नै बेचदे थे। इक बरी जे बमारी लग्गी तां चौं पासें बोतल-बंद पाणी बिकणा लगी पेया। माह्तड़ जेह् तां कदी बारें-तुहारें बोतल खरीददे फिरी घरें नळके ते भरदे कनै झोळे च पाई लैंदे। अजकल कम्मा पर जाणे आळे तकरीबन सारेयां ही लोकां अपणेयां बैगां च पाणिए दी बोतल रखियो हुंदी।

अज्जा ते पच्चीक साल पैह्लें, जदूं एह् बोतलां नीं थियां तां लोक दो-दो घंटे लोकल ट्रेनां कनैं बसां च धरयाए किञा रही लैंदे थे। कुती उतरी नै पाणी पीणे दा रुआज भी नीं था। अपणे ठौर-ठकाणे पर जाई नै ही गळें घुट उतारदे थे। तां क्या तदूं पाणिए दी खपत घट थी? हुण असां पाणी मता पीणा लगी पैओ? पैह्लें जादा बमार रैंह्दे थे कि हुण? बोलदे मता पाणी पीया तां तंदरुस्त रैंह्दे। तां हुण तंदरुस्ती बधी गइयो? क्या पता? कुनी कोई सर्वे नी कीता। बोतलां दे औणे परंत प्लास्टिक कितणा बधेया, इह्दा भी सर्वे कुनी नीं कीता।

पते दी गल एह् है भई पाणिए नै साह्ड़े सैह्रियां दा रिस्ता बोतलां दी मार्फत ही है। या नळके या फुहारे या फिरी खुल्ले गटर कनै गंदे नाळे।

हुण तां ग्रां च भी नळके लगी गेयो। बाईं कनै खूह् सुकी गेयो। नौण भी नां जो ही समझा। मतलब अगलियां पीढ़ियां दी पाणिए दी स्मृति बोतलां नळकेयां आळी ही होणी। असां तां बाईं दिक्खियां। सांजो नौंणा पर नौह्णे दे मौके भी मिल्ले। मेरे ताऊ गांदे थे लौंग ते लाइची नौह्यण लग्गे। लाइचिएं मारी चुब्बी। लौंग बचारा रोणा लग्गा, हाए बो मेरी लाइची डुब्बी। साह्ड़े ग्राएं दरवैलिया जेह्ड़ी बां थी, जिसा च छोट-छोटियां मछियां हुदियां थियां। इक खास किस्मा दिया मछिया जो डौंह्का बोलदे थे। बेबकूफ मुंडुआं जो भी डौंह्का गलांदे थे। साह्ढ़े मामेयां नै नरेळिया स्कूल था। बक्खें ही नौण था। तिस च पैड़ियां बणियां थियां। चकोर। अंदरे जो घटदियां जांदियां थियां। गब्भें जाई नै छोटा जेहा कुंड रही जांदा था। नौणे दे त्रींह् पासें उचियां दुआलां थियां। तफरिया च मुंडू तिन्हां पर बह्ई नै रोटी खांदे थे। तुआं: झनियारिया बक्खें सलासिया जेह्ड़ा स्कूल था, ओह्थी भी इक बां थी। सारे मुंडू तित्थी पटियां धोंदे थे। गाह्चणी मळदे कनै गाई-गाई नै झुलाई-झुलाई नै पटियां सुकांदे थे ... सुक सुक पटिए... । हुण तां हमीरपुर सैह्रें अपणे पंजे सलासिया तक फलाई तेयो। जिञा पुराणी मंडिया दी बां सैह्रे दियां गळियां बिच लुकी गइयो।

पाणिए दा रूं तां कुल्लू कनै सिमलैं मिलदा। स्याळें बद्दळ पाणिए दे बजाए बर्फ दिंदे। नर्म  नर्म रुंए दे फाहां साह्ई। कनै जे तुसां पाणिए दियां सलाइयां कनै फुट्टे लैणे होन तां होर उच्चेयां पहाड़ां पर चढ़णा पौणा। लौह्ळ स्पीति चले जा। ठंढ इतणी भई बगदा पाणी जम्मी जांदा कनै सलाइयां, लीह्कड़ियां साह्ई खड़ोई जांदा। चमकीला, पारदर्शी, ठंडा। सख्त पर हत्थ ला तां मुलायम। झीलां जम्मी जांदियां। उप्पर पैर रखा तां सीसे साह्ई तिड़की जांदियां।

मेरे अंदर पाणी हजारां रूप लई नै उमगदा। हजारां लक्खां साल पुराणा साथ है। पाणी नीं हुंदा तां सभ्यता नीं बसणियां थियां। सिंधु नदिया दे कंडैं साह्ड़े पुरखे रैंह्दे थे। नील नदिया पर भी लोक बसे। टिगरिस नदिएं मानुस जात गांह् बधाई। मैसोपोटामिया होऐ भौंएं मोहन जोदाड़ो, नदियां दा पाणी बगदा रेह्या कनै सभ्यता कनै संस्कृति चलदी रही। गंगा यमुना नर्मदा साढ़ियां मातां साह्ई साढ़े अंग-संग रहियां। अपर अपणियां नदियां जो जितणा दुख असां दित्ता हुंगा, तितणा कुनी पुतरां अपणियां माऊं जो नीं दित्ता होणा। 

बोतलुए खोली नै मैं आचमन करदा। अपणे सिरे उप्पर छिट्टे मारी ने पिंडे जो पवित्तर करदा। वरुण महाराज होरां जो नमस्कार करदा। प्रार्थना करदा, पाणिया-परमेसरा तू साढ़ियां बेवकूफियां माफ करेयां कनै साढ़ियां जिंदगियां कदी निर्जलियां मत करदा। कदी साढ़ा साथ मत छडदा।             

Saturday, January 13, 2018

ग़ज़ल

तेज सेठी जी दी इक गजल

ग़ज़ल


जिन्हां जे चलणा खड़ें क्याड़ें,
दिन नि दूर तिन्हां दे माड़े।
**
मत्था उन्हां देवीयाँ टेक्कां,
सरहदां पर जिन्हां दे लाड़े।
**
चुंग जे लाये इक भी दुस्मण,
करी औह्न वीर सौ फाड़े।
**
मत सेक्कें लोक्कां दियाँ धुप्पां
घुआड़ अपणे इ गुआड़-पुछाड़े।
**
चक्केयो झण्डे उपर-उपर,
थल्लो-थळीया अपणे ब्याड़े।
**
बुरा  मरुथल वी नि धूसर,
लिश्कदे रंग पगां दे गाढ़े।
**
रात्तीं मस्त  भजन जगरातें
दिन भर लग्गा करदे राह्ड़े।
**
बेच्चा दे बाब्बे परबचनां,
दुगणे  रात्ती मंगदे भाड़े।
**
हड़ जे औन्दा कुसी नि सुणदा,
ना मिंणतां ना छन्दे हाड़े।
**
कुर्सिया इसा  कड्ढ बिच्चे ते
दिख फ्ही कुण लीडर हन स्हाड़े।
**
बुजुर्गां स्हेड़ेयो थे रुख भाऊ
आई नै हण तैं  जेह्ड़े राड़े।
**
जनता दूँह दे प्हाड़े तिक, बस
नेतेयाँ जो घट दसां दे प्हाड़े।
**
ए कुण हन फूक्का दे अग्गीं
नौंएँ कनै पुआ-दे पुआड़े।
**
जाळा दे सरकारी बस्सां,
पत्थर-बाजी दिनें-धियाड़े।

हाक्खीं बंद हन हण ए कु:दियाँ
पुच्छा, कुण हन ए छछ्राड़े?
**
चुप हन तां भी सै: हन दोषी
सच्चे हन तां कैंह् नि लताड़े?

 तेज सेठी

सारेयां जो लोह्ड़‍ि‍या दी कनै संगरांदी दी बड़ी बड़ी मुबारक.

Monday, November 20, 2017

चाचू-भतीजू (अठमी अनुसूची)

चाचू-भतीजू (अठमी अनुसूची)


भतीजू : चाचू। एह अठमीं अनुसूची क्या बला है।
चाचू : भतीजू। जितणिया भी गल्लां होइयाँ। सब अणसोचियां ही होइयाँ कनै सब बलाईं थियाँ। हण इन्हां च अठमीं कुण कदेही थी क्या पता।
भतीजू : चाचू। तू भी ना गल्ला दी जड़ पुट्टी ने रखींदा।
चाचू : भतीजू। मोआ, तेरे बापूऐं। कदी सोचया था। तिजो साही लाल तिसदे घरें जमणा है।
भतीजू: सोचया ता चाचीयें भी नीं था कि तुसां साही मारू मिलणा है।
चाचू : सैही ता अहूँ गलाता है। क्या अठमीं क्या दसमीं सब अणसोची ही होंदी है।
भतीजू: चाचू। अहूँ भासा दी गल्ल करा दा।
चाचू : भतीजू। तू डपोक ही रही गिया। भासा क्या गलाते हैं। जी, बझीयों की होंदी हैं। रंगेज़ बझीये थे। तिन्हां दी थी क्या भासा थी ग्रेज़ी। अज सतरां सालां बाद भी तिसा च दम है। मेरे मुल्खें अज भी पूरा जोर लाई रा। ग्रेज़ी पढ़ी जा दा।
भतीजू: अहूँ, अपणीया पहाड़ी भासा दी गल्ल करी करा दा।
चाचू:  ढाई टोटरु मियां बागें। बझियां दी रीस करना लगयो।
भतीजू: चाचू हुण असां ही अपणे बझिये हन।
चाचू: एह मूहँ कनै मसरां दी दाळ। अज भी बझियां दी चिलमा मांजी जा दे कनै बोला दे असां अपणे बझिये हन। असां दा ता एह हाल है। जियां दलीप कमार इकी फिल्मा च गांदा। एह सूट मेरा देखो, एह बूट मेरा देखो। गोरा कोई लंडन का। साला मैं तो साब बण गिया।
भतीजू: चाचू तू भी न कुथु दी कनै कुस वग्‍ते दी गल करा दा।
चाचू:  मुआ तू मिंजो सब पता है। एथु सब बगाने झगुए पेहनी लाड़ा बणी फिरा दे। अपणा झगु इकी भाल ही था। तिन्नी गलाई ता था अजे ते गांधी ग्रेज़ी भुली गिया। असां तिस जो गोळी मारी ती थी।
भतीजू: चाचू गोळी मारने दी बजह थी।
चाचू: बजह थी ना असां सारयां बगाने झगु पेह्नयो थे कनै सैह अपणा झगु पेहनदा था।
भतीजू: एह झगु-झगु क्या करी जा दा।
चाचू: एह झगु तेरिया समझा ते बार है। मोआ भासा पालना सोखा कम नीं है। बडे लोक ही करी सकदे। मंगतयां दी इक ही भासा होंदी रोटी।
भतीजू: चाचू, तू सारे देसे दी बेज़ती खराब करा दा।
चाचू: बेज़ती ही खराब करा दा ना। इज्जत ता ठीक है।
भतीजू: चाचू, तुसां समझा दे नीं। मैं अठमीं अनुसूची दी गल्ल करा दा।
चाचू: ता इयाँ बोल ना। जेड़े अठमीं च फेल होणे ते बाद सिधे दसमीं दे पेपर दिंदे। तिन्हां दी सूची लिस्‍ट बणदी तिसा जो अठमीं अनुसूची गलांदे। मैं भी तिन बरी दिता पर नकल नीं मिली। तिनों बरी फेल होई गिया।
भतीजू: चाचू तुसां ने कोई समझा वाळी गल्ल करना बड़ा मुस्कल है।
चाचू: क्या करें भतीजू। तेरियां गल्लां किछ जादा ही समझा वालियां होन्दियां।
भतीजू: अहूँ,  तेरा ही भतीजू है। हुण ता किछ लो पा।
चाचू: अरा। मिंजो पता है। पर डर लगदा अठमीं अनुसूची च शामल होई ने असां दिया इसा पहाड़ी भासा जो सरकारी मनता मिली जाणी।
भतीजू: चाचू एह ता खरी गल्ल है। इस च डरने वाळी क्या गल्ल है।
चाचू: एही ता डरने वाळी गल्ल है।सरकारी मतलब नक्कमा कनै मुफ्त कोई मुल्ल नीं।सरकारी स्कूलां, सरकारी हस्पतालां च मजबूर लोग ही जांदे। सरकारी टेलीफून, सरकारी बस। सरकारी बस इक नौकरी ही ठीक होंदी।
भतीजू: चाचू तेरा दमाग खराब है या तू पागल है। तिजो पता भी सरकारी मनता दा क्या रबाब होंदा। पहाड़ी भासा दा क्या नां होई जाणा। लखारियां जो नाम मिलणे, सरकारी परचे छपणे, स्कूलां च पढ़ाई होणी।
चाचू: दमाग तेरा खराब है। भतीजू।  अखें-बखें दिख क्या होआ दा। जे किछ भी सरकारी है बजा दा। जिथु तक भासा दी गल्ल है। जेड़ी हिंदी सरकारी भासा है सैह भी सरकारी दफ़्तरां च बजा दी। तिसा च सरकार त्रियें महीनें रपोर्ट करीं दी। 99 टका। कम सारा ग्रेज़ीया च। हिंदी इस 99 दे फेरे च रगडोई-रगडोई हुण हफणा लगी पइयो।  जमाना चला गिया। हुण सरकारां भी सरकारी नोकर नीं रखा दी। सब ठेके पर।
भतीजू: चाचू एह गल्ल ता ठीक है। सब ठेके पर ही मिलदे।
चाचू: तू भी ठेके ही पई रेहन्दा।
भतीजू: चाचू। सारियां गलां झड। तू ठीक बोला दा। सरकारी नौकरी ही ठीक होंदी। तू मिंजो ताईं सरकारी नौकरी कनै सरकारी नौकरिया वाळी छोकरिया दा जुगत करी दे।अहुँ सारी उमर तेरे घरें पाणी भरगा।
चाचू: दोयो। सरकारी नौकर होन ता सैह अपणे घरें पाणी नीं भरदे। तें मिंजो अपणे घरें बड़ना नीं देणा।
भतीजू:  चाचू अहूँ देह्या नीं है।
चाचू: तू देह्या नीं है केँह् कि सरकारी नीं है। जुगत अहुँ क्या दसां। ग्रेज़ी ही सारयां ते बडी जुगत है। असां दा सारा देस इसा जुगाड़ च ही ता मुकणा लगया। अपणिया बोलीयां-भासां ता लगभग मुकाई तियां। मेरे याणे ग्रेज़ी पढ़ी साहब बणी जान। वदेसी नीं ता देसी ही सही पर साब बणी जान। होर भनण ठीकरियाँ, बदाम भने तू। दिखया नीं अज-कल मा-बुड़े जमदे याणयां नें भी यस नो ग्रेज़ी गलाते हैं। होर ग्रां से दूर ग्रेज़ी स्कूल में पढ़ाते हैं।
भतीजू: चाचू तुसां कनै बापूएं पहाड़ी गलाई कनै सरकारी स्कूला हिन्दी पढ़ाई मेरी ज़िंदगी खराब करी ती।
चाचू: हुण तू बोला दा था। पहाड़ी अठमीं अनुसूची च पाई नें स्कूलां पढ़ाणी। हुण मिंजो कनै बापुये जो गाळी देई जा दा। पहाड़ी केँह् बोलदे।
भतीजू: चाचू। एही तो गल्ल है जो तेरी समझ में नीं ओती है। अंग्रेजां जो अपणे जमाने च सब खून माफ थे। हुण अंग्रेज़ीया जो सब खून माफ हन।
चाचू: अरा। अहुं जो सब समझा ओन्दा। सब जानकार हन। सब अपणे डाले अपु ही बडी जा दे। अंग्रेजी केँह् मारे असां अपुं ही आत्महत्या ही करी लेणी।
भतीजू: चाचू तू समझा कर। तिजो क्या लगदा। मारना ता असां लगयो ही हन। देर-सबेर असां अपणियां सारीयां भासां मारी ही देणीया हन। पर कम से कम शहीदां दिया सूचिया नां ता आई जाये।

कुशल कुमार।


9869244269

Monday, June 26, 2017

भुक्‍खे पखेेेेरू

 रामस्‍वरूप होरां दे कैमरे ते 









Monday, March 13, 2017

होळीया दियां मबारकां


पेश है इक व्यंग

होळीया दी राती पंची दे  पंचां दी भीड़ भंग पी करी ने दिल्लिया घुमा दी थी। इन्हां सारयां अनुराग ठाकर जी दे बंगले पर होर ठोकी ने भंग पीती। इस ते बाद काफी खड़पंचिया ते बाद अनुराग ठाकर जी दिया अध्यक्षता च इक पंच मंडल नमो नमो जपदा मोदी होरां भाल पूजी गिया।

मोदी साहब ने इन्हां दी सारियां गल्लां पर अपणी मोहर लाई ती। ताहलु ही दिल्लिया ते शिमले जो हुक्मनामा जारी होई गिया कि 13 मार्च होलिया ते कांगड़ी हिमाचले दी सरकारी भासा होंगी। सारे सरकारी कम्म कांगड़िया च ही होणे। इसा घोषणा ते बाद कांगड़े चोंही पांसे होलिया दी जगह हैप्पी कांगड़ी ही चला दी।

इस ते बाद सारे प्रदेश ते लोकां दी लग‌-लग प्रतिक्रियां सामणे ओआ दियां। ठाकर अनुराग होरां गलाया। मोदी होरां दा हुक्म ता मनणा ही पोणा अपर मेरिया महीरपुरिया दा क्या होणा। मेरयां ब्लासपुरी कनै ऊने दे वोटरां भी नराज़ होई जाणा।

धूमल साहब ने गलाया शांताकुमार दी चाल है। सैह पार्टिया च भी मेरा कांगड़ा, मेरा कांगड़ा दी माला ही जपदे रेहन्दे।

शांताकुमार जी भी फैसले दे विरोध च हन। तिन्हां दा मनणा है कि एह मेरे खलाफ धूमल साहब दी साजिश है। मैं ता कांगड़ी बोलदा ही नीं। एह मेरे हिंदी साहित्य कनै हिंदिया जो खडा च पाणे दी कोसस है।

दुएं पासे मुखमन्त्री वीरभद्र सिंह जी इस फैसले दे समर्थन च खुली ने सामणे आये। वीरभद्र जी ने गलाया। पिछली वारी कांगड़े दे लोकां ही मेरी सरकार बणाई थी। उस ते बाद मिंजो कांगड़े ने प्यार होई गिया। मिंजो कांगड़ी कनै कांगड़ी लोकां दी समझ ता आई जांदे पर कांगड़ी बोलणा नीं औंदी। इस ताईं तिन्हां पीयूष गुलेरी जी ते कांगड़ी सिखणे तिकर शिमले छडी ने धर्मशाला निवास च ही रेहणे दा फैसला करी लिया।

प्रदेश दे सारयां मास्टर-मस्टरेणीयां दी टोली मोर्चा लई ने शिक्षा मंत्री सुधीर शर्मा भाल पूजी गिया। महारे को तो जी कांगड़ी ओती नीं है। तो पढ़ाई कैसे होये गी जी।

शिक्षा मंत्री होरां तिन्हां जो भरोसा दिता। तुसां जो डरणे की किछ जरुरत नीं है। आप लोक पहले साही नीं पढ़ाणे के कनै-कनै दकानदारी, प्रोतचारी, खेतर-वाड़ी, दुध-गुआळी, सुआटर बुणाई करी सकदे।


एह खबर बणे दिया अग्गी साही चोहीं पासे भड़की गईयो। जितणे मुहं उतणिया भाखां। कोई बोले मंडयाळी, कोई गल्लाता चंबायाळी, कोई ब्लासपुरी, कोई कुलवी, कोई बघ्याली, गिणी-गिणी गिणती भुली गई सारी। लोकां घुळी-घुळी चिक खलारी। सभ करादे म्हारी-तम्हारी।

उपरे ते चड़ी गिया राजनीती दा रंग भारी। कांग्रेसी बोला दे नाएँ च क्या रख्या। बोला हिमाचली, कांगड़ी या पहाड़ी। गल्ल कोई नीं होंदी माड़ी।

भाजपाई बोला दे। असां दा ता नां ही चला दा। यू पी च असां मोदी नाएँ ने ही लई बाजी मारी। इस ताईं जे भी है सब नाएँ च ही है  रख्या।

इस ते बाद हुड़दंग पई गिया। कोई बोले मोदी, कोई करे नमो नमो, कोई राहुल सोनिया माई। इतणे च झाड़ूये वाळा भी आई गिया। रोळा-रप्पा पई गिया बड़ा भारी। बाकी खबर अगलिया होळीया तिकर जारी...........।

कुशल कुमार

Friday, February 17, 2017

असां कैंह् नीं बोलदे पहाड़ी

एह लेख पिछले साल 3 नवम्बर 2016 जो  दैनिक जागरण दे अभिनव संस्करण च छ्पया था।  

असां पहाड़ी कैंह् नीं बोलदे। इस सुआले दा कोई जवाब नीं है। असां सारे पहाड़िये इस सुआले ते नठदे। जे काह्ली कुथी टाकरा होई भी जाये ता गल्ला ड़ुआई दिंदे। कई भाने हन पहाड़ी नीं बोलने दे। बोलणे दियां बजहां भी कई हन अपर जरूरत कोई नीं है। सैह पीढ़ी जेड़ी पहाड़ी बोलदी थी मुक्‍की चल्लीयो या अगलीयां पीढ़ीयां ते हिंदी-ग्रेजी सिखा दी।  पहाड़िया बगैर भी कम्म चला दाक्या होई जाणा जे असां पहाड़ी नीं बोलगे। पहाड़ी बोली कुथी नोकरी नीं मिलणी। जे पहाड़ी बोली कोई फायदा नीं है ता पहाड़ी कजो बोलणी। सच है अज कले दिया दुनिया च जरूरता ते लावा कोई रिश्ता नीं टिकदा। अपर सोचणे दी गल्ल हैदेहा क्या होई गिया कि असां अपणी मां-बोली बोलणे ते भी रही चुकयो।   
शायद गल्ल जरूरता दी भी नीं है। सारयां ते बडी गल्ल हैअसां जो अपणे-आपे पर वश्वास ही नीं है। असां अपणे वजूद दे बारे च ही डरदे रैहंदे। नहीं ता कुसी दे पुच्छणे पर म्हाचल दे बजाये किछ होर कैंह्  निकलदा। इतणे बडे देसे च शायद ही कुसी होर लाके दे कनै भासा बोलणे वाळे ऐह देयी सोच रखदे होणे। बड़ा अफसोस होंदा। जाह्लु असांदे पढ़यो-लीखयो पुच्‍छदे। जे पहाड़ी भासा है ता ईसा दी लीपी कैंह् नीं है। इन्‍हां समझदारां जो समझाणा बड़ा मुश्‍कल है। भई, जे लीपी नीं है ता असां पहाड़ी छडी देणी। मतियां सारियां लग-लग भासां इक्की ही लीपीया च लखोंदियां। दूर कजो जाणा हिन्‍दी, डोगरी, गढ़वाली, कुमाऊंनी कनै मराठीया दी इक्‍क ही लीपी है। जे असां भी अपणिया पहाड़ीया देवनागरीया च लीखा दे क्‍या बुराई है?
 असां जो लगदा असां दिया भासा कनै प्रदेश जो कोई पछैणदा नींपर सैह टेम बीती गिया। अज असां इक बड़े छैळ कनै बडे नाएं वाळे प्रदेश दे नवासी हन। जिथु तिकर भासा दी गल्ल है।असां इक नूठिया भासा दे मालक हन। जेड़ी बड़ी ही मिठी कनै प्यारी है। जे असां इसा जो सांभी नें नीं रखया ता इसा असां कनै ही मुक्की जाणा। जे मुक्की जांगी ता क्या होणाहोणा एह भई असां बोलन चाही नीं बोलन अपर इसा दे मालक दे तौर पर जेड़ी असां दी पछैण है। तिसा भी मुक्की जाणा। असां सारे भारतवासी हन,पर भारतवासी होणे दा मतलब एह भी नीं है कि असां दी कोई लग्ग पछैण नीं है। दरअसल एह लग्ग पछैणी ही भारत देश कनै असां दी बुणाबट दा जरूरी हिस्सा हन। असां ता राष्ट्रगान जन गण मन च भी शामल हन। इसा बुणाबट ते इक तंदी दा भी टुटणा इस देसे दे वजूद पर इक जख्म है। इक तंद टुटी जाये ता सारी बुणतर भी उघड़ी सकदी। मिंजो लगदा इस देसे दे नागरिक होणे दे नाते भीएह असां दी जिम्मेवारी बणदी कि असां अपणियां-अपणियां भासां-संस्‍कृतियां दिया इसा वरासता जो सांभी रखण।
सारयां ते पेहलें असां जो एह गल्ल समझणा पोणी कि पहाड़ी भासा वाळी ऐह असां दी पछैण। इस देसे दे 125 करोड़ लोकां च शामल होणे कनै इक लग रुतबा देणे दा जरिया भी है। असां दा देस बहुभासी है। लगभग सारे ही लग-लग भासां बोलणे वाळे बड़े ही इज़्ज़त कनै सम्मान ने अपणिया भासां दा नाँ लेंदे कनै तिन्हां जो प्यार करदे। अंग्रेज़ीया दे इतणे बडे तफाने दे बावजूद सैह अप्पु च कनै अपणे घरां समाजां च अपणिया भासां जो जिया दे कनै गांह बधाणे दी कोससां च शामल हन। तुसां सारयां दिखया होणा। एह लोक अपणी भासा बोलणे दा कोई मौका नीं छडदे। इस देसे दे हर लाके दे लोग अपणी भासा बोलदे ता असां अपणी भासां कैंह् नीं बोलना चाहन्दे। क्या कम्मी है असां च कनै असां दिया भासा च। मिंजो ता अजे तिकर कोई नज़र नीं आई। हाँबोलणे वाळे घट हनया लिखित च साहित्य ता हैपर पढ़ने दी कोई परम्परा नीं है। पर असां भाल लोक गीतांफोलणियापखेनालोककथां  दा जखीरा है। टांकरी साही इक लीपी भी थी। होर भी मत कुछ है पर असां भाल इन्हां दा कोई मुल्ल नीं है। उपरे ता असां अपणे आपे जो बड़ा छौटा समझीडरदे रैहंदे।
व्हाट्स एप्प पर मैं इकी हिमाचली ग्रुपे च है। मैं दिखया लोक अक्सर अपणे आपे जो पंजाब कनै जोड़ने दी कोसस करदे रैहंदे। इक टिप्पणी थी कि असली पंजाबी सैह होन्दाजेड़ा सारियाँ भासां पंजाबीया च ही बोलदा। एह ता कोई बडी गल्ल नीं हैअसां दे मते सारे बुजुर्ग हिंदी कनै दुइयाँ भासां पहाड़िया च ही बोलदे थे। सैह पीढ़ी बीती चलियो हुण असां हिमाचली पहाड़िये अपणी पहाड़ी भी पहाड़िया च नीं बोलदे।
 असां कनै दिक्कत एह है कि असां अपणे घरे च ही अपणी भासा बोलणे ते डरदे। क्या पता सामणे वाळे जो मेरी गल्ल समझा ओंगी कि नीं। असां अखलयां-वखलयां जिलयां दिया मिलदियां-जुलदियं बोलीयां भी जिलयां दे नाएं बंडी तियां। मैं सोचदा पिछले टेमे च जाह्लु हिंदीउड़दू होर भासां नीं थियां। ता मंडिया वाळे कांगड़े वाळ्यां नेया कांगड़े वाळे बलासपुरे वाळ्यां नें कुसा भासा च गल्ल करदे थे। इक गल्‍ल ऐह भी है कि असां  पढ़यो-लीखयो अपणिया-अपणिया बोलियां दे लम्बरदार जिसा मानक भासा दी गल्ल करा दे। तिसा मानक भासा दा मसला जे अकादमिक तरीके ने हल होई सकदा होन्दा ता बड़ी पेहलेँ होई जाणा था। पर होंदा ऐह आया कि इक्‍की पासें असां अपणिया-अपणिया बोलीयां बोलणा छड दे जा दे। दुएं पासें इन्‍हां दी लग-लग डफलियां भी बजाई जा दे। असां दी ऐह कोसस की असां इक मानक भासा तयार करनी फिरी सैह गल्‍लाणी कनै तिसा च साहित्‍य लीखणा। या फिरी असां अपणिया-अपणिया भासां जो मन्‍नता ताईं कोसस करी जा दे। मिंजो लगदा असां दी कोसस अपणिया-अपणिया भासां जो इकी-दुए ते लग करने दे बजाए इकी-दुए ने मेळणे दी होणा चाही दी।  
ईंया भी बोलदे की भासां लखारी नी लोक कनै समाज बणांदे। पर लखारियां जो मसाल लई गांह चलना पोंदा। अपर अजादिया ते बाद ही सारे देसे च भासा दे नांए पर देही मरो-मरी पई। सारयां अपणा बेड़ा गरक करी लिया। सब हिंदीया ने घुळदे रैह। अज हालत ऐह शिक्षा कनै पढ़ाईया  ते हिन्‍दीया समेत सारियां ही भासां दा डब्‍बा गोळ होर्इ चलया। पहाड़ीया दा भी ऐही हाल है। पहाड़ीया दे इस मसले जो भी असां दा समाज कनै लोक ही हल करी सकदे थे। सैह होई नीं सकया पर हुण भी किछ नीं बिगड़या,अपणिया अपणिया बोलियां जो प्यार करने वाळे असां सारे ईकी-दुए ने हिंदी या होर कुसी भासा दे बजाए अपणिया बोलिया च गल्ल करन। ईकी दुए दी भासा समझणे कनै समझाणे दी कोसस करन ता असां दी इक भासा होई जाणी। जेड़ी सारयां जो समझा औणी कनै सैह सारयां दी होणी।



मिंजो नी पता तकनीकी तौर पर एह गल्‍ल कितणी की ठीक है। अपर जितणिया भी भासां हन शायद इयाँ ही बणीया। भौगोलिक अंतर जादा, जनसंख्या कनै आपसी सम्वाद घट होणे दे कारण असां दी पहाड़ीया कनै एह नीं होई सकया। इक्‍क ही नीर लग-लग खडां च वग्‍दा रिहृया गंगा नी बणी सकया। जे गलत होये ता माफ करी दिनयो अपर मिंजो लगदा मानक भासा वाळा मुदृा ही गलत है। एह सुआल ही तां पैदा होंदा, जाह्लु असां सारियां भासां जो इक्‍की दुए ते लग करी दिखदे। एह सच है किछ बोलियां इक्‍की दुए ते बिलकुल ही लग हन। पर इत ता जेड़ीयां इक हन सैह भी असां जिलयां दे नांए पर लग करी तियां।
जे असां अपणिया भासां बचाणिया हन ता शायद एह सही वग्त है। अज असां भाल तकनीक भी है, गलाणे कनै लीखणे वाळे भी हन, सारयां ते बडी गल्‍ल इक मजबूत मीडीया भी है। जियां असां पहाड़ी भासा जो अठमी अनुसूची  शामल करने ताईं सरकारा भाल जोर लाया। तियां हीअसां जोलोकां भाल भी जाणा चाही दा। खास करी ने नोईंया पीढ़िया जो कनै लई नें चलणे दी बड़ी जरूरत है। इस मामले  लोकां दी एह गलत फेहमी दूर करना पोणीकि पहाड़ी बोलणे ते कैरियर कनै भविष्य पर बुरा असर पई सकदा। भई, दुनिया दियां जितणिया भी भासां तुसां सिखगे फ़ायदा ही होणा। पहाड़ी ता असां दी मां बोलीहै। इंनैं बरखा  छतरी ता धुपा  छांऊँ बणी सारी उमर सौगी चलदी रेहणा है। देणा ही देणा है, लेणा किछ नीं।
इस ताईं स्कूलां कनै कालजां  पहाड़ीया  बोलणे कनै लीखणे दियां प्रतियोगतां होणा चाही दियाँ।
इक गल्ल होर पहाड़ीया जो लोकां बिच लोकप्रिय बणाणे ताईं पहड़िया  जेड़ा लखोआ दा, कम होआ दा कनै  उपलब्ध है। सैह लोकां तिकर पजाणे दी भीकोससां करना चाही दिया।
सारयां ते बडी गल्ल ग्रां, कसबयां कनै शेहरां  होणे वाळ्यां मेळ्यां कनै सभाँ  पहाड़ी बोली जाये।
कुल मलाई ने जे असां अपणी मां बोली पहाड़ी बचाणी है। ता अज असां जो अपणे पहाड़ी समाजे  इस ताईं इक  आंदोलन छेड़ने दी जरूरतं है कनै एह शुरुआत अप्पु ते हुणे ते ही करना पोणी है।
चला सारे मिली इक जोरे दी हक्क पा। अपणा पूरा जोर ला। इक होई, बस पहाड़ी होई जा। पहाड़ीया च गलांदे जोरे वाळयां दा पथर कुअलिया पूजदा। अठमी अनुसूची दी क्या गल्ल है, जे असां सारे पहाड़ीया जो अपणिया पेहलीया सूचीया च शामल करी लेन ता इसा पहाड़ां दा ताज बणी जाणी। शिमले कनै दिल्लिया हिली जाणा।

कुशल कुमार  
मो 09869244269